इमाम बुखारी और चीन का कश्मीर राग

bukhari.JPG

इमाम बुखारी और चीन की कश्मीर समस्या को सुलझाने की कोशिश, ऐसे लग रही है जिसे चोर ने ही पंचायत बुला ली हो।

अभी कुछ दिन पहले ही चीन ने भारत और पाकिस्तान में संधि करने का ऑफर दिया था।

ये सोच कर की, इस से भारत कुछ नरम रुख अपनाएगा चीन के प्रति।

और भारत सरकार ने ये ऑफर कैपिटल में NO लिखकर ठुकरा दिया।

सही भी है  5 साल बाद जो देश दुनिया में नज़र भी नही आ रहा उस से संधि करनी ही क्या।

जिस दिन पाकिस्तान के आकाओं ने इसे चंदा देना बंद किया, उस दिन पाकिस्तान में एक गृह युद्ध होना तय है।

और ये युद्ध सिया सुनी, या किसी प्रान्त को लेकर नही होगा।

ये होगा एक दुसरे के घर माकन, ज़मीन जायदाद को छीन ने के लिए।

जिस पाकिस्तान का बजट विदेशी चंदो पर बन रहा हो, उससे संधि का लालच देकर चीन ने बता दिया है, की उसकी सरकारी मीडिया भले ही भारत के खिलाफ लम्बी लम्बी हाके पर, वो काफी डरा हुआ है।

उधर जमा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी ने नवाज़ शरीफ को ख़त लिख कर हुर्रियत से बात करने को कहा है।

इन शाही इमाम के बारे में मैं जब भी सोचता हूँ, हंसी ही आती है।

आज तक मैं ये नही समझ पाया, की ये शाही शब्द क्यों लगते है अपने नाम के आगे।

न तो जामा मस्जिद कोई शाही मस्जिद है और न वहां इमाम चुन ने का तरीका किसी सरकारी प्रावधान से होता है।

ये तो पीढ़ी दर पीढ़ी अपने आप ही यहाँ इमाम बनते चले आ रहे है।

खैर इमाम साहब का पाकिस्तानी प्रेम जगजाहिर है, ये पहले भी ऐसा करते आये है।

पर इस बार इन्होने नवाज़ शरिफ्फ़ को अलगावादी नेताओ से बात करने को कहकर, अपना आतंकी प्रेम भी दिखा दिया है।

जिन्हें ये अलगावादी नेता बोल रहे है, दर्शल वो कभी रजिस्टर्ड आतंकी रह चुके है।

आज उन्होंने , फटा पयजमा छोड़ कर शेरवानी पहनली, बिखरे बल और दाढ़ी को करीने ने ट्रिम कर लिया, और बन्दूक छोड़ कर माइक पकड़ लिया है।

बस कुछ नही बदला तो ये, की कल तक जो आग इनकी बन्दूक से निकलती थी ,अब वो आग ये अपनी बोली से माइक में निकाल रहे है।

इन्ही लोगो से बात कर के नवाज़ शरीफ को कश्मीर समस्या का समाधान करने को उज्बेकितानी कोम बुखारा के इमाम बुखारी साहब ने कहा है।

बुखारी साहब आप ने ये चिट्टी लिख कर बस एक उड़ता तीर लिया है।

क्यों की आपके बिना कहे ही, इतने दिनों से तो पाकिस्तान ही इन अलगावादियों को पाल रहा था, उन्ही की बाते मान मान कर तो ये इतने सालो से कश्मीर में नाच रहे।

खैर ये पत्र लिख कर आपने अपना पाकिस्तानी प्रेम, भारत में अपना अविश्वास और भारत की सरकार से आपका डर साफ़ साफ़ जाहिर कर दिया है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s